mpbreaking31838271

जामा मस्जिद में लड़कियों के प्रवेश पर रोक, महिला आयोग ने कहा ‘तालिबान एक्ट’, नोटिस जारी


जामा मस्जिद में लड़कियों के प्रवेश पर रोक दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद में लड़कियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है. इसे लेकर तीनों गेट पर नोटिस भी चस्पा कर दिया गया है। इसमें लिखा गया है कि ‘अकेली लड़कियों या युवतियों का जामा मस्जिद में प्रवेश वर्जित है.’ नोटिस पर ईमेल आईडी projmd2000@gamail.com भी लिखा हुआ है। इस फरमान के बाद अब लड़कियां सिर्फ पुरुष अभिभावक के साथ ही मस्जिद जा सकती हैं। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इसकी कड़ी आलोचना की है और शाही इमाम को नोटिस जारी कर इसे शर्मनाक और असंवैधानिक कृत्य बताया है.

लड़कियों का प्रवेश वर्जित है

मस्जिद कमेटी की ओर से जारी इस एक लाइन के आदेश ने हंगामा खड़ा कर दिया है। पहले यहां लड़कियों या महिलाओं के प्रवेश को लेकर कोई शर्त या पाबंदी नहीं थी। जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी का कहना है कि उन्हें शिकायत मिल रही थी कि यहां कई लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड के साथ आती हैं, जो अकेले आती हैं वो गलत काम करती हैं और वीडियो बनाती हैं. ऐसी चीजों को रोकने के लिए यह फैसला लिया गया है। उन्होंने साफ किया कि नमाज के लिए आने वाली महिलाओं को नहीं रोका जाएगा। लेकिन इसके अलावा अब अगर लड़कियां जामा मस्जिद आना चाहती हैं तो उनके साथ किसी पुरुष अभिभावक या पति का होना जरूरी है.

दिल्ली महिला आयोग ने नोटिस जारी किया है

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इस विवादित फैसले का कड़ा विरोध किया है। इस पर आपत्ति जताते हुए उन्होंने कहा कि जामा मस्जिद के शाही इमाम को नोटिस दिया गया है. स्वाति मालीवाल ने कहा, ‘यह शर्मनाक और पूरी तरह से असंवैधानिक कृत्य है। उन्हें क्या लगता है कि यह देश भारत नहीं, यह देश इराक है? खुलेआम महिलाओं से भेदभाव करेंगे और कोई कुछ नहीं कहेगा? एक महिला को पूजा करने का उतना ही अधिकार है जितना कि एक पुरुष को पूजा करने का। संविधान से ऊपर कोई नहीं है। तालिबान की इस हरकत के लिए हमने दिल्ली के शाही इमाम को नोटिस भेजा है। उनके द्वारा लगाए गए प्रतिबंध को किसी भी कीमत पर हटाया जाएगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.